विश्व कैंसर दिवस पर निबंध Essay on World Cancer Day

विश्व कैंसर दिवस पर निबंध Essay on World Cancer Day

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख विश्व कैंसर दिवस 2022 पर निबंध (Essay on World Cancer Day) में।

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आप विश्व विश्व कैंसर दिवस पर निबंध पड़ेंगे। जो कक्षा 5 से लेकर कक्षा 12 वीं तथा उच्च कक्षाओं में पूँछा जाता है। तो आइये दोस्तों करते है शुरू यह लेख विश्व कैंसर दिवस पर निबंध:-

जीएसटी पर निबंध

विश्व कैंसर दिवस पर निबंध

विश्व कैंसर दिवस क्या है What is World Cancer Day

मानव के इतिहास में समय समय पर नयी बीमारियों का आवागमन होता रहा है। इनमें से कुछ बीमारियाँ तो ज्यादा हानिकारक नहीं होती किन्तु कुछ बीमारियाँ पूरी मानव जाति के लिए घातक साबित हुई है।

इन सारी बीमारियों के मौजूद होने के बाद भी आज मनुष्य इन सब से जूझता हुआ आगे बढ़ रहा है और इसका कारण है

इंसान कि इन बीमारियों के प्रति जागरूकता। यही कारण है, कि मनुष्य के लिए किसी भी बीमारी की जानकारी होना और उसके प्रति सचेत होना आवश्यक है।

कैन्सर ऐसी ही एक बीमारी का नाम है जो दुनिया भर में प्रति वर्ष लाखों लोग को मौत के घाट उतारने के लिए जानी जाती है। ये एक ऐसा रोग है जो संक्रामक नहीं है।

शायद इसीलिए कई लोग इसके प्रकोप से बचे हुए हैं। संक्रामक न होते हुए भी ये मानव जीवन के लिए बहुत हानिकारक रहा है। इससे होने वाली मौत का कारण कई बार समय पर इलाज न होना होता है।

शुरुआती दौर में इस बीमारी से प्रभावित लोगों को इस के मौजूद होने का कोई शेष ही नजर नहीं आता जिसके चलते यह बीमारी अंदर ही अंदर मानव शरीर में

पनपती रहती है और जब तक यह अपना असर दिखाएँ तब तक ये अपनी आखिरी स्टेज तक पहुँच चुकी होती है। यही कारण है कि ये इतनी घातक है।

कैंसर के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए Union for international cancer control ( UICC ) ने हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस World Cancer डे मनाने की पहल की है।

विश्व कैंसर दिवस मनाने के पीछे UICC का यही मकसद है, कि लोगों को कैंसर नाम की इस बीमारी से अवगत कराएं और इसके खोज, निवारण और इलाज के प्रति लोगों को जागरुक कराए।

इसके जरिए ये हर साल कैंसर से होने वाली मौतों का आंकड़ा कम करना चाहते हैं। विश्व कैंसर दिवस  World Cancer Day मनाने के पीछे ये भी कारण है कि UICC लोगों को कैंसर के बारे में प्रचलन में रहे अफवाहों से सचेत करना चाहती है।

उसका मानना है कि दुनिया भर में कैंसर से जुडे़ कई बेबुनियादी अफवाहें भी चर्चे में है जिसके चलते लोग सही जानकारी से भटककर गलत रास्तों को अपना लेते हैं और इनका शिकार हो जाते हैं।

इस पहल के द्वारा UICC खुद कैंसर पीड़ितों को ये आश्वासन दिलाता है कि वो अकेले नहीं हैं और विश्व कैंसर दिवस मनाने के पीछे भी उसका ये उद्देश्य है कि लोगों को अपने आस पास कैंसर पीड़ितों के प्रति सहानुभूति रखने के लिए प्रेरित कर सके।

विश्व कैंसर दिवस कैसे मनाया जाता है How is World Cancer Day celebrated

जैसा कि हम जानते हैं कि विश्व कैंसर दिवस मनाने के पीछे उद्देश्य लोगों को कैंसर के प्रति जागरूक करना है तो इसके लिए World Health Organization द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर union for International cancer control नाम की एक संस्था इसके लिए निर्धारित की गई है।

हर साल 4 फरवरी को एक नए विषय के साथ यह संस्था दुनिया भर में एक नया आगाज करती है। इस दिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मानव जाति को इकट्ठा हो के कैंसर के खिलाफ़ लड़ने के लिए प्रेरित किया जाता है

और उन्हें इस बात का ज्ञात कराया जाता है कि अगर हम चाहे तो कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी अपनी और अपने चाहने वालों की जान बचा सकते हैं।

लोगों को प्रेरित किया जाता है की वो कैंसर से जुड़ी सही जानकारी का वितरण अपने आसपास और अपने संबंधियों में फैलाएं।

इस दिन कैंसर के प्रति अपने आप को सक्रिय दिखाने के लिए लोग हल्का बैंगनी रंग का फीता लगाते हैं और इससे ये दर्शाते हैं, कि उनके आस पास या दुनिया भर में जो भी कैंसर से पीड़ित लोग हैं

वो उनके साथ है और सब मिलके एक साथ इस बीमारी से लड़ेंगे। ये उम्मीद की जाती है कि जितने भी सरकारी और निजी संस्थान है वो कैंसर से जुड़ी कोई नई योजना या पहल कि नींव इस दिन रखेंगे।

विश्व कैंसर दिवस थीम World cancer day theam 2022

विश्व कैंसर दिवस थीम की थीम विश्व कैंसर दिवस 2019 से आई एम एंड आई विल (I am and I will) रखी गई है।

जिसका अर्थ होता है कि में हुँ और में रहूँगा। अर्थात यह थीम रोगी मरीज के लिए आत्मविश्वास, तथा उसकी शक्ति को बढ़ाने का कार्य करती है

जिससे वह अपनी जिंदगी में कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ सके और खुशहाल जीवन जी सके। ऐसे मनुष्य के जीवन में छोटी - छोटी खुशियाँ भरकर आप उसे और भी आनंदित कर सकते है। 

विश्व कैंसर दिवस का इतिहास History of World cancer day

एक सर्वेक्षण के हिसाब से पाया गया की विश्व में प्रति वर्ष होने वाली लगभग 10 मिलियन मौतों का जिम्मेदार अकेला कैंसर होता है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ये एक काफी चिंता का विषय साबित हुआ।

सर्वेक्षण में यह भी पाया गया की कैंसर से होने वाली मौतों में ज्यादातर मौत अज्ञानता और जागरूकता के अभाव के कारण होती है।

यदि सही तरीके से लोगो तक इस बीमारी के प्रति जागरूकता फैलाई जाए और उन्हें इसके बारे में सही जानकारी दी जाए तो आज के दर के मुकाबले होने वाली मौतों को 40% तक कम किया जा सकता है।

बस यही लक्ष्य लेके दुनिया भर से अलग अलग संस्थानो ने मिल के यह फैसला किया कि वो इस पहल को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दिलवाएंगे।

विश्व कैंसर दिवस की नींव सन् 2000 में पहली बार World Summit against Cancer जो कि पेरिस में आयोजित किया जा रहा था में रखी गई।

इस मीटिंग में दुनिया भर से सरकारों के प्रसिद्ध नेता और विश्व के कोने कोने में उपस्थित कैंसर संस्थानों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

सबने मिलके मीटिंग के दौरान Charter of Paris साइन किया जो कि कैंसर पीड़ितों के इलाज के लिए और कैंसर से जुड़ें रिसर्च के लिए वित्त पोषण को पूरा करने के उद्देश्य से बना 10 अनुच्छेदों का

एक डॉक्यूमेंट था। इस डॉक्यूमेंट के 10 वें अनुच्छेद मे ये घोषणा की गई कि हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया जाएगा जिससे लोगों के दिलो और दिमाग में हमेशा ये चार्टर ऑफ पेरिस उपस्थित रहेगा।

कैंसर के कारक Causes of Cancar

कैंसर बीमारियों के एक बड़े समूह का नाम है और ये बीमारियाँ कई कारणो से हो सकती हैं। कुछ ऐसी चीजें भी हैं जो कैंसर के सेल्स को पनपने में मदद करती है जिन्हें हम कार्सिनोजेन्स भी कहते हैं।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि हमारे शरीर में पहले से ही कोशिकाओं मे कुछ ऐसी जीन्स होती है जो सक्रिय होने पर कैंसर को प्रेरित कर सकती है।

कैंसर के कारकों मे कुछ जाने माने नाम तो रोज़मर्रा की जिंदगी में बहुत स्वाभाविक है जैसे

  1. शराब 
  2. तंबाकू
  3. अस्वस्थ आहार
  4. सूर्य से निकली हुई कुछ विकिर्णे 
  5. वायरस और दूसरे संक्रमण
  6. और मानव के खुद के जींस

विश्व कैंसर दिवस जागरूकता World cancer day awareness 

विश्व कैंसर दिवस सभी देशों में मनाया जाने वाला तथा राष्ट्रों के सभी रोगियों और लोगों में जागरूकता उत्पन्न करने वाला सबसे महत्वपूर्ण दिवस होता है।

इस दिवस के अवसर पर राष्ट्र के सभी लोगों में कैंसर के प्रति जागरूकता कैंसर के बारे में बताने के लिए विभिन्न स्वास्थ्य संगठनों के द्वारा कई प्रकार के आयोजन और जागरूकता कार्यक्रम किए जाते हैं।

वर्ल्ड कैंसर डे अवेयरनेस के द्वारा सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थान विभिन्न प्रकार के एनजीओ आदि सभी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में कैंसर से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियाँ लोगों को प्रदान करते हैं

इसके लिए विभिन्न प्रकार के माध्यम का प्रयोग किया जाता हैं, लोगों को कैंसर की बीमारी से सचेत करने के लिए कैंसर के लक्षण तथा कैंसर की जानकारी देने के

लिए संस्थानों के द्वारा ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के नुक्कड़ नाटक, जागरूकता कैंप, विभिन्न स्कूलों में विश्व कैंसर दिवस पर निबंध प्रतियोगिता, चित्रकला प्रतियोगिता

ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में रैलियाँ आदि के द्वारा लोगों में कैंसर के प्रति जागरूकता उत्पन्न करते हैं। इन सभी कार्यक्रमों के द्वारा भी लोगों को समझाते हैं

कि कैंसर क्या है, कैंसर से किस प्रकार से बचा जा सकता है, कैंसर होने पर कौन-कौन से लक्षण हो सकते हैं, कौन-कौन से कैंसर होते हैं आदि। इन सभी प्रयासों द्वारा काफी हद तक लोग कैंसर के बारे में जानने लगते है तथा वे कैंसर के प्रति जागरूक होते है। 

World Health Organization द्वारा कैंसर के बारे में आवश्यक तथ्य

WHO के मुताबिक कैंसर, सेल्स की अनियंत्रित विभाजन के कारण होता है। कोशिकाओं के इस अनियंत्रित रूप में बढ़ने के कारण शरीर में इनकी संख्या बहुत बढ़ जाती है

जिसके कारण शरीर के दूसरे अंगों को पोषण की कमी होने लगती है और वो धीरे धीरे सङने लगते है। WHO ने ये भी कहा है कि अक्सर इस बीमारी को इसके प्रारंभिक चरणों में पहचान पाना मुश्किल होता है

इसलिए इसका पता नहीं लगता और ये भयानक बीमारी का रूप पकड़ लेती है जिसके बाद इलाज और मुश्किल हो जाता है। हालांकि रिसर्च और टेक्नोलॉजी की वजह से आज यह संभव है

कि किसी भी चरण तक पहुंचे इस बीमारी को सही इलाज से ठीक किया जा चुका है। World Health organization का ये मानना है

कि अगर सही वक्त पर इस घातक बीमारी का पता चल जाए तो इससे ज्यादा आसानी से ठीक किया जा सकता है और दुनिया भर में मौत का कारण बनी इस बीमारी से होने वाली मौतों मे से ज्यादातर मौत अज्ञानता

और इसके प्रति जागरूकता न होने के कारण ही है। जब लोगों को इसके बारे में सही जानकारी होगी तो कैंसर से होने वाली मौतों की संख्या के दरों को 40% तक कम किया जा सकता है।

दोस्तों आपने यहाँ विश्व कैंसर दिवस पर निबंध (Essay on World Cancer Day) पड़ा। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:- 

  1. वैलेंटाइन डे पर निबंध
  2. देश प्रेम पर निबंध
  3. जल ही जीवन है पर निबंध


Post a Comment

और नया पुराने
close