राइबोसोम क्या है what is Ribosome

राइबोसोम क्या है

राइबोसोम क्या है what is Ribosome 

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख राइबोसोम क्या है (what is Ribosome) में। दोस्तों इस लेख में आप राइबोसोम क्या है?

राइबोसोम की खोज किसने की, राइबोसोम के प्रकार राइबोसोम की संरचना राइबोसोम के कार्य आदि जानेंगे। तो आइये दोस्तों करते है शुरू आज का यह लेख राइबोसोम क्या है:-

कोशिका झिल्ली किसे कहते है संरचना तथा कार्य

राइबोसोम क्या है what is Ribosome 

राइबोसोम प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में पाये जाने वाले वह संरचना होती है, जिसे नग्न आंखों से देखना असंभव होता है,

इन्हें केवल सूक्ष्मदर्शी (Microscopes) की सहायता से ही देखा जा सकता है। राइबोसोम कोशिका में प्रोटीन निर्माण का कार्य करते हैं,

इसलिए इसे कोशिका का प्रोटीन फैक्ट्री भी कहा जाता है, क्योंकि राइबोसोम के द्वारा ही प्रोटीन का संश्लेषण अर्थात प्रोटीन का निर्माण होता है।

अतः प्रोटीन का संश्लेषण करने वाली कोशिकाओं में राइबोसोम अधिक पाई जाती हैं। राइबोसोम न्यूक्लियोप्रोटीन की बनी हुई छोटी-छोटी संरचनाएँ होती हैं, जो एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम (Endoplasmic reticulum) से जुड़ी रहती हैं

या फिर कोशिका द्रव में बिखरी हुई अवस्था में पाई जाती हैं, साथ ही राइबोसोम माइटोकॉन्ड्रिया क्लोरोप्लास्ट के साथ ही एमआरएनए के साथ भी दिखाई देते हैं। 

राइबोसोम की खोज किसने की who discovered the ribosome

राइबोसोम कोशिका के प्रमुख अंगक की खोज रोमानिया के एक प्रसिद्ध जंतुशास्त्री जॉर्ज पेलेड़े ने 1953 में की थी।

इसी कारण राइबोसोम को पेलेड़े कण के नाम से भी जाना जाता है किंतु इन कणों को राइबोसोम नाम 1958 में वैज्ञानिक रिचर्ड वाटसन ने दिया था।

राइबोसोम के प्रकार Type of ribosome

अवसादन गुणांक तथा आकार के आधार पर राइबोसोम को निम्न दो प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:- 

  1. 70S राइबोसोम - यह राइबोसोम प्रमुख रूप से प्रोकैरियोटिक कोशिका अर्थात केंद्रकविहीन कोशिकाओं में पाए जाते हैं, जो दो सब यूनिट से मिलकर बने होते हैं।जिनकी सबसे छोटी सब यूनिट 30S तथा बड़ी सब यूनिट  50S होती है। यह सब यूनिट राइबोसोम के ऊपर टोपी के समान संरचना बनाते हैं।
  2. 80S राइबोसोम - यह राइबोसोम सभी प्रकार की यूकैरियोटिक कोशिका अर्थात केंद्रकयुक्त कोशिकाओं में देखने को मिलते हैं। यह राइबोसोम भी दो प्रकार की सब यूनिट जिनमें छोटी 40S और बड़ी 60S सब यूनिट्स  से मिलकर बने होते हैं। यह सब यूनिट एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम की बाहरी सतह से चिपके रहते हैं तथा प्रत्येक सब यूनिट पर t-RNA की जांच होती है, जिनको p-site  और A-site कहा जाता है। p-site के t-RNA अणु पर पॉलिपेप्टाइड श्रृंखला और A-site पर t-RNA अणु पर पेप्टाइड श्रंखला से जुड़ने वाला अमीनो अम्ल का अणु लगा रहता है। m-RNA दोनों के बीच छोटे सब यूनिट के बीच छोटे सब यूनिट से सलंग्न रहता है।

राइबोसोम की संरचना Structure of Ribosome

राइबोसोम की संरचना अत्यंत सरल होती है, जो छोटे-छोटे गोलीय कण होते हैं। इनके चारों ओर एक प्रकार की झिल्ली से घिरे रहते है जो लिपिड और प्रोटीन की बनी होती है,

जिसके अंदर विभिन्न प्रकार के एंजाइम भरे होते हैं। प्रत्येक राइबोसोम में प्रमुख रूप से r-RNA प्रोटीन, लिपिड तथा कुछ धात्विक आयन पाए जाते हैं।

70S राइबोसोम में r-RNA की मात्रा प्रोटीन की मात्रा से अधिक होती है, जबकि 80S राइबोसोम में r-RNA की मात्रा प्रोटीन से कम होती है।

राइबोसोम के कार्य Function of Ribosome

सभी राइबोसोम का एक प्रमुख कार्य होता है 'प्रोटीन का निर्माण करना' अर्थात प्रोटीन का संश्लेषण करना क्योंकि इसके बिना जीवन ही संभव नहीं है।

इसके अलावा राइबोसोम का कार्य m-RNA तथा t-RNA से भी संबंधित होता है। राइबोसोम के बड़े सब यूनिट 60S कोशिका की कोशिका द्रव में पाई जाने वाली एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम की झिल्लीयो से जुड़ी रहते हैं।

जबकि जो छोटे सब यूनिट होते हैं, वह बड़े सब यूनिट के ऊपर जुड़े हुए रहते हैं। m-RNA जिसे मैसेंजर आर एन ए अर्थात संदेशवाहक कहा जाता है, केंद्रक को किस प्रकार का प्रोटीन बनाना है उस संदेश का बहन करता है,

क्योंकि प्रोटीन का निर्माण अमीनो अम्लों को जोड़-जोड़ कर किया जाता है और इन अमीनो अम्लों को जोड़ने का काम राइबोसोम के अंदर ही होता है।

इसके लिए अमीनो अम्ल को कोशिका द्रव्य से राइबोसोम तक लाने का कार्य t-RNA अर्थात ट्रांसफर आर एन ए के द्वारा पूरा किया जाता है।

m-RNA राइबोसोम की छोटी सब यूनिट से संबंधित होता है जबकि बड़े सब यूनिट से t-RNA के दो अणु जुड़े रहते हैं और दोनों अणु विशिष्ट खांचो में फिट रहते हैं, जिनमें एक साइट p-site कहलाती है,

इसमें से बढ़ती हुई अमीनो अम्ल की श्रंखला या पॉलिपेप्टाइड की चैन दिखाई देती है, जबकि दूसरी खांच के t-RNA का अगला अमीनो अम्ल को जोड़ा जाता है इस दूसरी खांच को A-site कहा जाता है।

सभी जीवित कोशिकाओं में 20 तरह के विभिन्न अमीनो अम्ल को विशिष्ट क्रम में श्रृंखला रूप में जोड़ने पर हजारों तरह के प्रोटीनो का निर्माण राइबोसोम के द्वारा किया जाता है।

दोस्तों इस लेख में आपने राइबोसोम क्या है (what is Ribosome) राइबोसोम के बारे में अन्य तथ्यों को पड़ा। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. कोशिका किसे कहते है प्रकार तथा सिद्धांत
  2. प्रोकैरियोटिक तथा युकेरियोटिक कोशिका में अंतर

Post a Comment

और नया पुराने
close