उत्तर प्रदेश पर निबंध Uttar Pradesh par nibandh

उत्तर प्रदेश पर निबंध Uttar Pradesh par nibandh

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख उत्तर प्रदेश पर निबंध (Uttar Pradesh par nibandh) में।

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आप उत्तरप्रदेश के बारे में सामान्य जानकारी प्राप्त कर पायेंगे। तो आइये शुरू करते है यह लेख उत्तर प्रदेश पर निबंध:-

जीएसटी पर निबंध

उत्तर प्रदेश पर निबंध

उत्तर प्रदेश का परिचय तथा गठन Introduction and Estabilishment

उत्तर प्रदेश भारत का एक ऐसा राज्य है, जो अपनी भौगोलिक, सांस्कृतिक तथा राजनीतिक स्थिति के कारण हमेशा ही संपूर्ण भारत तो क्या विश्व में भी चर्चित में रहता है, क्योंकि भारतवर्ष की भूमि उत्तर प्रदेश सांस्कृतिक तथा भौगोलिक संपन्न स्थिति है।

ऐसे प्रदेश उत्तर प्रदेश को वैदिक काल में ब्रम्हार्षी तथा मध्य देश नाम से जाना जाता था। 1877 में इसे उत्तर पश्चिमी प्रदेश तथा आगरा के नाम से जाना जाने लगा और फिर 1902 में इसे अवध संयुक्त प्रांत के नाम से पुकारा जाने लगा।

1935 में उत्तर प्रदेश का नाम संयुक्त प्रांत पड़ गया और 12 जनवरी 1950 से इसे उत्तर प्रदेश के नाम से संबोधित किया जाने लगा, किंतु उत्तर प्रदेश के राजनीतिक स्वरूप का निर्धारण 1 नवंबर 1956 को हुआ और लगभग 44 साल 

बाद 9 नवंबर 2000 उत्तरप्रदेश के पहाड़ी क्षेत्र को अलग करके एक नया राज्य उत्तरांचल बना दिया गया। इस प्रकार से कह सकते हैं, कि उत्तर प्रदेश भारत देश का वह राज्य है, जिसका गठन 1 नवंबर 1956 में हुआ था, जिसका कुल क्षेत्रफल 240928 वर्ग किलोमीटर है

तथा यह क्षेत्रफल (Area) की दृष्टि से संपूर्ण देश में पांचवा स्थान रखता है, किंतु जनसंख्या (Population) की दृष्टि से यह भारत का प्रथम राज्य है।

उत्तर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था Education System 

उत्तर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था (Education System) काफी उन्नत प्रकार की है यहाँ पर केंद्रीय विश्वविद्यालय राज्य स्तरीय विश्वविद्यालय के साथ ही कई अन्य विश्वविद्यालय जैसे खुला विश्वविद्यालय विधि विश्वविद्यालय कृषि विश्वविद्यालय भी उपलब्ध है।

उत्तर प्रदेश में चार केंद्रीय विश्वविद्यालय हैं जिनमें से एक काशी हिंदू विश्वविद्यालय सबसे पुराना विश्वविद्यालय माना जाता है, जबकि सामान्य विश्वविद्यालयों की संख्या 11 है, जिसमें डॉक्टर अंबेडकर विश्वविद्यालय सबसे पुराना विश्वविद्यालय है।

डीम्ड विश्वविद्यालयों की संख्या भी चार है, जिसमें दयालबाग शिक्षा संस्थान दयालबाग सबसे पुराना विश्वविद्यालय माना जाता है। उत्तर प्रदेश में एक खुला विश्वविद्यालय राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन,

एक विधि विश्वविद्यालय लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय लखनऊ दो कृषि विश्वविद्यालय के साथ ही एक चिकित्सा विश्वविद्यालय 9 मेडिकल कॉलेज 12 इंजीनियरिंग कॉलेज और 17 पॉलिटिक्स कॉलेज स्थापित हो चुके है।

इसके अलावा शैक्षिक संस्थान की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में आईटीआई संस्थान अध्यापक प्रशिक्षण कॉलेज सामान्य कॉलेज महिला महाविद्यालय के साथ ही वित्त विहीन विश्वविद्यालय दंत चिकित्सा महाविद्यालय

यूनानी चिकित्सा महाविद्यालय तथा प्राथमिक, माध्यमिक, और हाईस्कूल स्तर पर कई राज्यस्तरीय विद्यालय, केंद्रीय विधायक है।

उत्तर प्रदेश का प्रशासनिक ढांचा Adminstrative System 

उत्तर प्रदेश राज्य जनसंख्या की दृष्टि से भारत में प्रथम स्थान पर आता है, इसलिए यहाँ की राजनीतिक तथा प्रशासनिक ढांचा भी बहुत ही मजबूत है। उत्तर प्रदेश में सरकार का संसदीय स्वरूप देखने को मिलता है,

जिसके अंतर्गत कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका आते हैं। कार्यपालिका में राज्यपाल तथा राज्यपाल की सहायता और सलाह के लिए मुख्यमंत्री मंत्रिमंडल का नेतृत्व करता है।

उत्तर प्रदेश में विधायिका द्विसदनीय होती है, जिसमें विधानसभा और एक स्थाई निकाय विधान परिषद भी है। न्यायपालिका में उच्च न्यायालय शामिल है, जिसमें मुख्य न्यायाधीश सहित अन्य न्यायाधीश होते हैं।

यह राज्य का उच्च न्यायालय इलाहाबाद में जबकि इसकी खंडपीठ लखनऊ में स्थित है। उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीटें राज्यसभा की 31 सीटें विधानसभा परिषद की 404 और विधान परिषद की 100 सीटें हैं।

उत्तर प्रदेश की भौगोलिक स्थिति Geographical Condition 

उत्तर प्रदेश क्षेत्रफल की दृष्टि से संपूर्ण भारत में पांचवें स्थान पर आता है, जिसमें सबसे अधिक क्षेत्रफल वाला जिला लखीमपुर खीरी तथा सबसे कम क्षेत्रफल वाला जिला भदोही है। उत्तर प्रदेश का पूर्वी जिला बलिया तथा पश्चिमी जिला मुजफ्फरनगर है,

जबकि उत्तरी जिला सहारनपुर और दक्षिणी जिला सोनभद्र को कहा जाता है। उत्तर प्रदेश में 3 ऋतुयें होती हैं, ग्रीष्म, वर्षा और शीत ऋतु जबकि उत्तर प्रदेश की जलवायु उष्ण प्रधान शीतोष्ण कटिबंधीय

और मानसूनी होती है, यहाँ ग्रीष्म ऋतु में तापमान 45 डिग्री तक पहुँच जाता है, जबकि सर्दी में 12.5 से 17.5 डिग्री सेंटीग्रेड तक रहता है।

उत्तर प्रदेश की सबसे लंबी और पवित्र नदी गंगा को माना जाता है, जो 28 जिलों से होकर गुजरती है, जबकि अन्य नदियों में यमुना, रामगंगा, घाघरा का भी नाम आता है।

उत्तर प्रदेश में बॉक्साइट, जिप्सम, चूना पत्थर, मैग्नेटाइट,  फॉस्फोराइट, गंधक, कोयला आदि खनिज पाए जाते हैं, जबकि उत्तर प्रदेश का वन आच्छादन क्षेत्रफल 14341 वर्ग किलोमीटर है।

उत्तर प्रदेश के मैदानी प्रदेश का निर्माण गंगा और उसकी सहायक नदियों के द्वारा जो शिवालिक की पहाड़ियों और दक्षिण पठार के भाग के मध्य में स्थित है,

जबकि गंगा का ऊपरी मैदान प्रदेश का भूभाग शिवालिक की पहाड़ियों के दक्षिणी भाग में स्थित है और इसी मैदान में भावर और तराई के क्षेत्र के मैदान भी पाए जाते हैं।

उत्तर प्रदेश की कला संस्कृति Art culture

उत्तर प्रदेश कला तथा सांस्कृतिक दृष्टि से एक संपन्न प्रदेश के रूप में माना जाता है, क्योंकि उत्तर प्रदेश के लगभग प्रत्येक क्षेत्र में कला और संस्कृति की झलक दिखाई देती है। उस कला और संस्कृति की झलक दिखाई देती है, जो प्राचीन काल से ही विधमान है।

उत्तर प्रदेश के कौशांबी राजघाट से पूर्व पाषाण कालीन हड़प्पा काल के बर्तन, ताम्बे की वस्तुएँ आदि प्राप्त हो गई है, तो वहीं उत्तर प्रदेश बौद्ध धर्म के दो तत्व धम्म और संघ की जन्मस्थली भी मानी जाती है।

मूर्ति निर्माण की मथुरा के साथ उत्तर प्रदेश की विभिन्न स्थापत्य कलाऐं देखने योग्य हैं। सारनाथ से प्राप्त हुआ सिंह स्तंभ चुनार के पथरों से निर्माणित अशोक स्तंभ मथुरा के आठ नामक स्थान से कुषाण वंश के शासकों विम कदफिसेस, कनिष्क की प्रतिमाएँ,

गुप्त काल में उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में देवगढ़ का पत्थरों का मंदिर, कानपुर में भीतरगांव का बना हुआ ईटों का मंदिर, ताजमहल, अयोध्या, अकबर का मकबरा, एत्माद्दौला का मकबरा आदि सभी उत्तर प्रदेश की कला और संस्कृति के जीते जागते प्रमाण है।

उत्तरप्रदेश के पर्व त्यौहार तथा मेले Festivals and Fairs 

उत्तर प्रदेश में सभी जाति धर्म सभी वर्ग के लोग रहते हैं, इसलिए उत्तर प्रदेश में हर एक पर्व त्यौहार तथा मेला बड़ी ही धूमधाम और उत्सव के साथ मनाया जाता है। उत्तर प्रदेश में हिंदुओं के प्रमुख त्यौहार मकर संक्रांति, बसंत पंचमी, महाशिवरात्रि, होली,

रामनवमी, बैसाखी, दशहरा, दीपावली, रंगपंचमी, रक्षाबंधन, गणेश चतुर्थी कृष्ण जन्माष्टमी आदि होते हैं। इसके अलावा मुस्लिम वर्ग के त्योहारों में रमजान, ईद उल जुहा, मोहर्रम जबकि सिख धर्म के लोग वैशाखी, गुरु नानक जयंती, गोविंद सिंह जयंती आदि त्योहारों को बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाते हैं।

ईसाई धर्म के लोगों के प्रमुख त्योहार गुड फ्राइडे, ईस्टर क्रिसमस होते हैं, जबकि बौद्ध धर्म का प्रमुख त्यौहार बुद्ध पूर्णिमा (बुद्ध जयंती) है और महावीर जयंती भगवान महावीर के जन्म दिवस के उपलक्ष पर मनाया जाने वाला एक त्यौहार है, जिसको सबसे प्रमुख तौर पर जैन धर्म के लोग बनाते हैं।

उत्तर प्रदेश में विभिन्न प्रकार के मेलों का भी आयोजन किया जाता है,  जिसमें सबसे बड़ा मेला कुंभ का मेला है। इलाहाबाद नगर में गंगा जमुना तथा सरस्वती के संगम पर प्रत्येक बारह वर्ष बाद लगता है जिसमें देश - विदेश से लाखों में श्रद्धालु आते हैं।

इसके अलावा नौचंडी मेला मेरठ, गढ़मुक्तेश्वर मेला गढ़मुक्तेश्वर नगर में गंगा के किनारे, देव शरीफ मेला प्रसिद्ध सूफी संत वारिस अली शाह की दरगाह पर बटेश्वर का मेला आगरा के बटेश्वर नामक स्थान पर कैलाश मेला आगरा के जनपद में कैलाश तथा सिकंदरा में लगाया जाता है।

उत्तर प्रदेश के बारे में कुछ विशिष्ट तथ्य Other information 

  1. उत्तर प्रदेश का राजकीय पशु बारहसिंघा, राजकीय पक्षी सारस तथा क्रॉंच, राजकीय पुष्प पलाश, राजकीय चिन्ह दो वृत्त में दो मछली एवं एक तीर धनुष, राजकीय भाषा हिंदी, द्वितीय राजभाषा उर्दू, राजकीय वृक्ष अशोक तथा राजकीय खेल हॉकी है।
  2. उत्तर प्रदेश का सर्वाधिक जनसंख्या वाला जिला इलाहाबाद सबसे कम जनसंख्या वाला जिला महोबा उत्तर प्रदेश का लिंगानुपात 928 सबसे अधिक लिंगानुपात वाला जिला जौनपुर सबसे कम लिंगानुपात वाला जिला कानपुर उत्तर प्रदेश का जन घनत्व 828 व्यक्ति प्रति वर्गकिलोमीटर सबसे अधिक जनघनत्व वाला जिला गाजियाबाद सबसे कम जनघनत्व वाला जिला ललितपुर है।
  3. उत्तर प्रदेश की साक्षरता दर 69.72% पुरुष साक्षरता दर 79.24%  महिला साक्षरता दर 59.26%  सर्वाधिक महिला साक्षरता वाला जिला गाजियाबाद, सबसे कम महिला साक्षरता वाला जिला श्रावस्ती, सबसे अधिक पुरुष साक्षरता वाला जिला गौतम बुध नगर, सबसे कम पुरुष साक्षरता वाला जिला श्रावस्ती है।
  4. उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल न्यायाधीश जस्टिस राजेश बिंदल है।

दोस्तों आपने यहाँ पर उत्तर प्रदेश पर निबंध (Uttar Pradesh par nibandh) पढ़ा। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. भारत में जल संकट पर निबंध
  2. पवित्र नदी गंगा पर निबंध
  3. समाचार पत्र पर निबंध
  4. सिंधु घाटी सभ्यता पर निबंध


Post a Comment

और नया पुराने
close