पेड़ों के महत्व पर निबंध Essay on importance of tree

पेड़ों के महत्व पर निबंध Essay on importance of tree 

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत-बहुत स्वागत है, आज के हमारे इस लेख पेड़ों के महत्व पर निबंध (Essay on importance of tree) में।

दोस्तों यह लेख आप पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध पड़ेंगे, यहाँ से आप पेड़ों के महत्व पर पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध लिखने का आईडिया भी ले सकते हैं, तो दोस्तों आइए शुरू करते हैं, यह लेख और पढ़ते हैं पेड़ों के महत्व पर निबंध:- 

पेड़ों के महत्व पर निबंध


पेड़ों के महत्व पर निबंध 50 शब्द Essay on importance of trees 50 words 

पेड़ जिसे हम वृक्ष प्रकृति की संपदा हरा सोना आदि कई नामों से जानते हैं, वह मनुष्य के जीवन के साथ ही पृथ्वी पर जीवन का आधार होते हैं, इसीलिए कहा जाता है,

कि भगवान ने सबसे पहले प्रकृति पर पेड़ पौधों को ही उत्पन्न किया। पेड़ पौधों के द्वारा मनुष्य को दो महत्वपूर्ण घटक भोजन और ऑक्सीजन (O2) प्राप्त होते हैं,

जिन पर मनुष्य के साथ कई जीव जंतुओं का जीवन निर्भर करता है। पेड़ पौधे मनुष्य तथा जीव जंतुओं को विभिन्न प्रकार के उत्पाद भी देता है।

पेड़ पौधों के द्वारा मनुष्य को ऑक्सीजन भोजन के साथ ही महत्वपूर्ण लकड़ी औषधियाँ आदि भी प्राप्त होती हैं, वहीं कई पेड़ पौधे, पर्यावरण संतुलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और पर्यावरण को

शुद्ध रखने का कार्य भी करते हैं। इसलिए पेड़ पौधों की रक्षा करनी चाहिए नये वृक्ष लगाने चाहिए ताकि पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को बचाया जा सके।


पेड़ पौधों पर निबंध


पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध 200 शब्द Essay on importance of tree 200 words 

यहाँ पर पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध (Essay on importance of trees) सरल और कम साधारण शब्दों में समझाने का प्रयास किया गया है:- 

  • प्रस्तावना Preface 

पृथ्वी पर उत्पन्न पेड़ पौधे भगवान द्वारा दिए गए वह संपत्ति होते हैं, वे वरदान होते हैं, जिनका मूल्य हम जीवन भर नहीं चुका सकते है। वैसे पृथ्वी पर दो प्रकार की प्रजातियाँ पाई जाती है, जीव जंतुओं की प्रजातियाँ और वनस्पतियों की प्रजातियाँ,

जिनमें वनस्पतियों के अंतर्गत पेड़ पौधों को रखा गया है। पेड़ पौधे पृथ्वी पर उगने वाले वे प्रजातियाँ वे जीव होते हैं, जिनमें जीवन तो पाया जाता है, किंतु वह चल फिर नहीं सकते, वैज्ञानिकों ने पेड़ पौधों को प्लांटी वर्ग (Plante) के अंतर्गत वर्गीकृत किया है, जिसमें लगभग 58 हजार से अधिक प्रजातियाँ हैं।

  • पेड़ों का महत्व Importance of trees 

वृक्ष हमें ऑक्सीजन और भोजन दोनों ही प्रदान करते हैं, इसलिए वृक्ष इस धरती पर जीवन का आधार होते हैं।आज के समय में हम जो ऐश और आराम का जीवन जी रहे हैं, धरती पर सांस ले रहे हैं, खाना खा रहे हैं,

जो कपड़े पहन रहे हैं, और विभिन्न प्रकार की वस्तुऐं उपयोग में ला रहे हैं, वास्तव में वृक्षों के द्वारा ही प्राप्त होते हैं। वृक्ष जहाँ हमें विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ देते हैं, जिनका उपयोग मानव अपने जीवन में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष तरीके से करता है,

वहीं वे वर्षा लाते है, वृक्षों से ही हमें विभिन्न प्रकार की जड़ी बूटियाँ, लाख, गोंद कई कीमती लकड़ियाँ प्राप्त होती हैं, जड़ी बूटीयों के लिए कई वृक्षों की पेड़ पौधों की खेती की जाती है, वहीं मकरंद तथा सुगंधित तेल और इत्र बनाने के लिए फूलों के पौधों की खेती की जाती है।

पेड़ पौधे हमारे पर्यावरण को साफ सुरक्षित बनाते हैं, कई पौधों का उपयोग एंटीसेप्टिक क्रीम के रूप में जीवाणुओं को नष्ट करने के लिए भी होता है, इसलिए कह सकते है, कि वृक्ष बिना जीवन असम्भव है।

  • उपसंहार Conclusion

पेड़ सभी जीव जंतुओ के जीवन का आधार है, इसलिए हमें वृक्षों को काटना नहीं चाहिए, उन्हें अपना मित्र (Friend) समझना चाहिए और उनकी रक्षा करनी चाहिए, तभी पृथ्वी पर जीवन संभव रह सकता है।


पेड़ों के महत्व पर निबंध 500 शब्द essay on importance of tree in 500 words 

यहाँ पर पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध प्रमुख हेडिंग्स के साथ कम शब्दों में समझाने का प्रयास किया गया है, यहाँ से कक्षा 5 से 8 तक के बच्चे निबंध लिखने का आइडिया ले सकते हैं:- 

  • पेड़ क्या है what is tree 

पेड़ पौधों का वह वृहत रूप होता है, जो पृथ्वी पर जीवन के आधार माने जाते हैं, जिनको वनस्पति वर्ग के अंतर्गत रखा गया है, जिसमें लगभग 58000 प्रजातियाँ ज्ञात है। पेड़ पौधों की यह प्रजातियाँ समुद्र नदी और पृथ्वी अर्थात स्थल पर ही पाए जाते हैं।

हम अपने चारों ओर विभिन्न प्रकार के पेड़ पौधों को देखते हैं, जो नीम, बरगद, आम, जामुन, महुआ तथा विभिन्न क्षेत्रों के आधार पर अलग-अलग प्रकृति तथा किस्म के होते हैं, तथा एक स्थान पर खड़े होकर लगातार परोपकार का कार्य करने वाली वनस्पति पेड़ पौधों के नाम से जानी जाती है।

  • पेड़ पौधों का महत्व Importance of tree 

पेड़ पौधों का महत्व मानव जीवन के साथ ही पृथ्वी पर उपलब्ध सभी प्रकार के जीवो के जीवन के लिए बहुत ही आवश्यक होता है, क्योंकि पेड़ पौधे ही जीवन जीने के लिए ऑक्सीजन जीवनदायिनी गैस जीव जंतुओं को देते हैं और विभिन्न हानिकारक गैस जैसे कि कार्बन ऑक्साइड (CO2) को सोखते हैं।

इसके अलावा पेड़ पौधे मनुष्य को विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ जैसे कि खाने के लिए फल छोटे-छोटे पौधे अनाज, दालें आदि भी मनुष्य को प्रदान करते हैं, इसीलिए मनुष्य प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से पेड़ पौधों पर ही निर्भर करता है।

पेड़-पौधों से ही मनुष्य को लकड़ी इमारती लकड़ी, जलाऊ लकड़ी भी प्राप्त होती है, वहीं जंगल के पेड़ों से लाख, गोंद तथा रबड़ के पेड़ों से रबर आदि प्राप्त होती है। इस प्रकार से पेड़ पौधे विभिन्न उद्योगों (Industries) के आधारभूत स्रोत भी माने जाते हैं और इनके द्वारा लाखों लोगों को रोजगार (Employment) भी प्राप्त होता है।

  • पेड़ पौधों के कमी से नुकसान Damage due to lack of trees

पेड़ पौधों की कमी से विभिन्न प्रकार के नुकसान भी देखने को मिलते हैं। अगर धरती पर पेड़ ही ना रह जाएँ तो मनुष्य के साथ ही पृथ्वी पर हर एक प्रकार का जीवन का अस्तित्व ही खत्म हो जाएगा, क्योंकि पेड़ पौधों की कमी के वजह से विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ पृथ्वी पर जन्म लेने लगेंगी पृथ्वी का तापमान बढ़ जायेगा और यह पृथ्वी फिर से एक आग का गोला बन जाएगी।

पेड़ पौधों की लगातार कमी से आज मनुष्य का औसत जीवन कम होता जा रहा है, मनुष्य विभिन्न प्रकार की बीमारियों से जूझ रहा है, पेड़ पौधों की कमी के द्वारा ही जलवायु परिवर्तन ठीक प्रकार से नहीं होते हैं, गर्मियों में बहुत ही अधिक गर्मी देखने को मिल रही है, ग्लेशियर पिघल रहे हैं, समुद्र का जल का स्तर बढ़ता जा रहा है,

ओजोन परत का क्षरण हो रहा है, पराबैगनी किरणों (Ultraviolet Rays) के कारण कई प्रकार की बीमारियाँ उत्पन्न होती जा रही हैं, धरती पर ग्लोबल वार्मिंग तथा हरित गृह प्रभाव जैसी जटिल समस्याएँ जन्म लेती जा रही है और इसका मुख्य कारण पेड़ पौधों की कमी है।

  • पेड़ पौधों को बचाने के उपाय ways to save trees

पेड़ पौधों को बचाना अर्थात पृथ्वी पर जीवन को बचाना होता है, इसलिए अगर इस पृथ्वी पर जीवन को बचाना चाहते हैं, तो पेड़ पौधों को बचाना चाहिए।

पेड़ पौधों को बचाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को आगे आना चाहिए, इसके लिए सरकार भी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम जारी कर पेड़ पौधों को बचाने और नए पेड़ों के लगाने के कार्यक्रम चलाती रहती हैं।

वन महोत्सव के द्वारा देश में हर साल लाखों पेड़ों को लगाया जाता है। देश में चल रहे विभिन्न एनजीओ (NGO) के द्वारा भी हर साल लाखों वृक्षों को रोपित किया जाता है और उनको बड़ा किया जाता है,

इसलिए लोगों को पेड़ों के महत्व को समझना चाहिए और लगातार पेड़ लगाना चाहिए। भारत सरकार नगर निगम नगर परिषद आदि संस्थाओं द्वारा पेड़ लगाने वालों को पुरस्कृत किया जाना चाहिए, जबकि जो लोग पेड़ों को काटते हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करके उन्हें तुरंत दंडित किया जाना चाहिए।

  • उपसंहार Conclusion

वृक्ष प्रकृति के अमूल्य वरदान है, जिनके कारण ही पृथ्वी पर जीवन है, इसलिए हमें अपने जीवन रूपी वृक्ष की रक्षा करनी चाहिए और आधिक से आधिक वृक्ष लगाना (Tree Plantation) चाहिए।


पेड़ों के महत्व पर निबंध


पेड़ों के महत्व पर निबंध Importance of trees 

यहाँ पर पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध सरल भाषा में जरूरत की हेडिंग्स के साथ समझाया है, यहाँ से कक्षा 5 से 12 वीं तक के छात्र भी पेड़ों के महत्व पर निबंध लिखने का आईडिया ले सकते है:- 


प्रस्तावना Preface 

दुनिया में ऐसी बहुत सारी वस्तुएँ होती हैं, जिनका अपने आप में एक खास महत्व होता है, जो अपने आप में एक खास गुण रखती हैं और मनुष्य तथा विभिन्न जीव जंतुओं के लिए उपयोगी भी होती हैं।

उनमें से एक ऐसी अमूल्य संपदा है "पेड़" जो पौधों का एक बड़ा रूप होता है और दुनिया भर में इसके लगभग 30 खरब से भी अधिक संपदा है, जिनकी लगभग 58000 प्रजातियाँ है और उनमें लगभग 15000 फूल पौधों की प्रजातियाँ, कुछ जड़ी बुटियों शाक, फल आदि की प्रजातियाँ देखने को मिलती है,

इसलिए वृक्ष एक प्रकार की वह अमूल्य संपदा है, जो पृथ्वी पर जल और स्थल दोनों में ही पाई जाती है और अपनी गुणों के द्वारा लाखों मनुष्य और जीव-जंतुओं को लाभान्वित करती है।


पेड़ो का वर्गीकरण Classification of trees

पौधों की उत्पत्ति तथा संरचना के आधार पर उनको निम्नलिखित तीन प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:- 

  1. थैलोफाइटा (Thallophyta) :- थैलोफाइटा पादप जगत के प्रारंभिक पौधे माने जाते हैं, जिनकी संरचना बड़ी ही सरल होती है। यह प्रमुख रूप से एक थैलस के समान होते हैं, अर्थात इन पेड़ पौधों का शरीर जड़ तना और पत्तियों में विभाजित नहीं रहता है, जबकि इनमें संवहनीय ऊतक भी अनुपस्थित होते हैं। थैलोफाइटा के अंतर्गत सभी प्रकार के शैवाल, कवक और जीवाणुओं को रखा गया है।
  2. ब्रायोफाइटा (Bryophyta) :- ब्रायोफाइटा पादप जगत का वह पादपों का समूह होता है, जिनमें भ्रूण का निर्माण होना शुरू हो जाता है, किंतु इन पादपों में भी संवहनी ऊतक अनुपस्थित रहते हैं। यह पेड़ पौधे हैं, स्थली होते हैं और छायादार तथा नम स्थानों पर उगते हैं। ब्रायोफाइटा के अंतर्गत मास नामक पौधा सबसे प्रमुख पौधा माना जाता है।
  3. ट्रेकियोफाइटा (Tracheophyta) :- ट्रेकियोफाइटा उन पेड़ पौधों का ग्रुप होता है, जो विकसित होते हैं, इसीलिए अध्ययन की दृष्टि से इन्हें तीन प्रकार में बांटा गया है:- 

  • टेरिडोफाइटा (Tteridophyta) :- यहाँ पर उन पेड़ पौधों को स्थान दिया गया है, जो पुष्प का उत्पादन नहीं करते हैं, किंतु इनमें संवहन उत्तक पाए जाते हैं। इसके अंतर्गत फर्न नामक पौधा सबसे अधिक प्रसिद्ध पौधा है।
  • अनावृतबीजी (Angiosperm) :- यहाँ पर उन पौधों को समाहित किया गया है, जो बीज उत्पादन करने लगते हैं, किंतु यह बीज किसी भी आवरण द्वारा घिरे हुए नहीं होते हैं। यहाँ के पौधे बहुवर्षीय पौधे होते हैं, जिसके अंतर्गत साइकस, चीड, देवदार आदि पेड़ आते हैं।
  • आवृत्तबीजी (Gimnosperm) :- यहाँ पर उन सभी पौधों को सम्मिलित किया गया है, जिनमें बीज पाए जाते हैं और वह फल के अंदर होते हैं। यहाँ पर शाक, झाड़ियाँ वृक्ष सभी प्रकार के पेड़ पौधे आते हैं। इस उपप्रभाग को एकबीजपत्री और द्विबीजपत्री पौधों में बांट दिया गया है।

पेड़ों के महत्व Importance of trees

दुनियाभर में 30 खरब से अधिक पेड़ पौधे पाए जाते हैं, जो मनुष्य को लगातार प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष प्रकार से लाभ पहुँचाते रहते हैं। मनुष्य ही नहीं यह दुनिया के हर एक जीव जंतु को लाभ पहुंचाते हैं।

यहाँ तक कि हम कह सकते हैं, कि पेड़ पौधों के अभाव में इस पृथ्वी पर जीवन की कल्पना करना हमेशा के लिए असंभव ही है, क्योंकि पेड़ पौधों से ही जीव जंतुओं को जीवनदायिनी ऑक्सीजन गैस प्राप्त होती है, जल और भोजन भी पेड़ पौधों से ही प्राप्त होते है,

जो जीवन का आधार है। पेड़ पौधों से मनुष्य को भोजन जलाऊ लकड़ी, इमारती लकड़ी, फल, फूल, सब्जियाँ, अनाज, दालें वहीं विभिन्न प्रकार के गौंड पदार्थ जैसे कि लाख शहद गोंद इमरती, लकड़ी, रबर, चाय, तम्बाकू, तेल भी प्राप्त होते है, इसलिए हम कह सकते हैं,

कि विभिन्न उद्योगों के आधारभूत स्रोत वृक्ष ही होते हैं। वृक्ष हमारे पर्यावरण (Environment) को हमेशा शुद्ध बनाए रखते हैं, हमें ऑक्सीजन प्रदान करते हैं, वही खाने के लिए शुद्ध फल और ताजी ठंडी शीतल हवा प्रदान करते हैं।


पेड़ों की कमी के दुष्परिणाम Consequences of tree loss

वर्तमान में मनुष्य जनसंख्या (Population) लगातार बढ़ती जा रही है, इसलिए जनसंख्या के द्वारा विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए लगातार वृक्षों को काटा जा रहा है। बड़े से बड़े जंगलों को काटा जा रहा है

और रहने के लिए आवास के लिए वस्तुओं का निर्माण तथा उद्योगों का निर्माण के लिए उपयुक्त स्थान में परिवर्तित कर दिया जा रहा है, लेकिन दूसरी तरफ पेड़ पौधों की कमी के कारण वातावरण में विभिन्न प्रकार के दुष्परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं,

प्राकृतिक जलधाराएँ सूखती जा रही हैं, विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ उत्पन्न होती जा रही हैं, हरित गृह प्रभाव (Green House Effect ) तथा ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) की समस्या उत्पन्न होती जा रही है, बढ़ती जा रही है,

जिससे पर्यावरण असंतुलित होता जा रहा है। आज के समय में वातावरण इतना प्रदूषित हो गया है, कि आज हम इस प्रदूषण रहित वातावरण में दवाइयों के बिना रह भी नहीं पा रहें है। पेड़ पौधों के काटे जाने से प्रदूषित वातावरण में विभिन्न प्रकार के

जीव जंतु मृत होते जा रहे हैं, कई जीव जंतुओं की तो प्रजातियां हमेशा के लिए ही विलुप्त हो गई है और कुछ विलुप्त होने की कगार पर है।

कई पेड़ पौधों की प्रजातियाँ भी प्रदूषण (Pollution) के प्रभाव में आकर नष्ट हो गई हैं, इसलिए कह सकते है, कि वृक्षों की कमी के ऐसे परिणाम हो सकते है, जिनका बोझ कोई नहीं झेल सकता है।


पेड़ों को बचाने के उपाय Ways to save trees

पेड़ पौधे मनुष्य जीवन के साथ ही जीव जंतुओं के जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, इसीलिए पेड़ पौधों को बचाने के लिए हमें हर समय ठोस कदम उठाना चाहिए और पेड़-पौधों को बचाना चाहिए। पेड़ पौधों को बचाने के लिए जनमानस को अपने दिल में प्रतिज्ञा करनी चाहिए

की किसी भी हरे - भरे वृक्ष को हम नहीं काटेंगे और ना ही किसी को काटने देंगे। प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में कम से कम पाँच वृक्षों को लगाना चाहिए,

उनका पोषण करना चाहिए। वृक्ष बचाने में सरकार को भी सक्रिय भाग लेना चाहिए नगर परिषद नगरपालिका के पार्षदों को भी वृक्षारोपण अभियान में आगे आना चाहिए और अपने - अपने वार्डों में प्रतिवर्ष 100 वृक्ष लगाने चाहिए और जो अच्छा काम करता है,

उनको नगर परिषद नगरपालिका द्वारा सम्मानित किया जाना चाहिए। भारत सहित देश विदेश में भारत सरकार तथा विभिन्न पर्यावरण मित्र संगठनों द्वारा समय -समय पर वृक्षारोपण अभियान चलाये जाते है,

ऐसे अवसर का लाभ जनसमुदाय को भी उठाना चाहिए और वृक्षारोपण में सहयोग देना चाहिए, जो लोग वृक्ष काटते है, उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही कारावास और जुर्माने का प्रावधान होना चाहिए।

वर्तमान में वृक्षारोपण के द्वारा कई राज्य सरकारें किसानों को उनकी खाली ज़मीन पर वृक्ष लगाने के लिए प्रोत्साहन राशि भी प्रदान कर रहीं है, जो की सराहनीय कार्य है। इसप्रकार ऐसे कई उपाय है, जिनसे पेड़ों को बचाने के उपाय किए जा सकते है और धरती को हरा भरा खुशहाल रख सकते है।


उपसंहार Conclusion 

वृक्ष वास्तव में मनुष्य जीवन के साथ ही पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से सभी जीवित प्राणियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में पेड़ों की करीब 58,497 प्रजातियाँ हैं, जिनमें से केवल 41.5 फीसदी (24,255) प्रजातियां ही सुरक्षित घोषित हैं। वहीं पेड़ों की करीब 29.9 फीसदी (17,510) प्रजातियों पर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है।

इसीलिए सभी मनुष्यों को वृक्षारोपण (Tree Plantation) करने की कसम खानी चाहिए और वृक्ष ना काटने का वादा भी अपने आप से करना चाहिए, तब जाकर पृथ्वी को फिर से हरा-भरा करके जीवन के अस्तित्व को बचाया जा सकता है। 

दोस्तों आपने यहाँ पर पेड़ों के महत्व पर निबंध (Essay on importance of tree) पेड़ पौधों के महत्व पर निबंध पढ़ा, आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

  • इसे भी पढ़े:-
  1. जल प्रदूषण पर निबंध Essay on Water pollution
  2. ध्वनि प्रदूषण पर निबंध Essay on Noise pollution
  3. वायु प्रदूषण पर निबंध Essay on Air Pollution
  4. सुनामी पर निबंध Essay on Tsunami
  5. भूकम्प पर निबंध Essay on Earthquake



Post a Comment

और नया पुराने
close